अनुकर्ष | ಅನುಕರ್ಷ್‌ | ANUKARSH

- पीअर – रिव्यूड त्रैमासिक पत्रिका -

भाषा और साहित्य विभाग द्वारा प्रकाशित

संपादक - मंडल

  • संरक्षक-प्रमुख
  • श्री अभय जी. चेब्बी
    उप-कुलाधिपति, अलायंस विश्वविद्यालय
  • संरक्षक
  • प्रो. (डॉ.) अनुभा सिंह
    कुलपति, अलायंस विश्वविद्यालय
  • प्रधान संपादक
  • डॉ. अनिरुद्ध श्रीधर
    विभागाध्यक्ष, अलायंस विश्वविद्यालय

संपादक

  • डॉ. अनुपमा तिवारी
    सहायक प्रोफेसर (हिंदी), अलायंस विश्वविद्यालय
  • डॉ. विवेकानंद सज्जन
    सहायक प्रोफेसर (कन्नड़), अलायंस विश्वविद्यालय
  • डॉ. लिजू जैकब कुरियाकोस
    सहायक प्रोफेसर (अंग्रेजी), अलायंस विश्वविद्यालय

सलाहकार समिति

  • डॉ. एम. वेंकटेश्वर
    अंग्रेजी और विदेशी भाषा विश्वविद्यालय, हैदराबाद
  • डॉ. प्रभा शंकर प्रेमी
    प्रोफेसर (सेवानिवृत्त), बैंगलोर विश्वविद्यालय
  • डॉ. सी. जय शंकर बाबू
    पांडिचेरी विश्वविद्यालय
  • डॉ. पार्वती दास
    सहायक प्रोफेसर
    आईआईआईटीडीएम, कांचीपुरम
  • डॉ. टी. डी. राजण्ण
    सहायक प्रोफेसर
    कर्नाटक केंद्रीय विश्वविद्यालय
  • डॉ. एम. एस. दुर्गा प्रवीण
    सहायक प्रोफेसर
    द्रविड़ विश्वविद्यालय, आंध्र प्रदेश
  • प्रो. बिबिन थॉमस
    सहायक प्रोफेसर (अंग्रेजी)
    क्राइस्ट कॉलेज, इरिंजालकुडा

सह- संपादक

  • डॉ अरिन्दम दास
    सह - प्रोफेसर (अंग्रेजी)
    अलायंस विश्वविद्यालय
  • डॉ. मनीषा दीक्षित
    प्रोफेसर (मीडिया और पत्रकारिता)
    अलायंस विश्वविद्यालय
  • डॉ. राऊफ़ मीर
    सहायक प्रोफेसर (मीडिया और पत्रकारिता)
    अलायंस विश्वविद्यालय
  • प्रो. रवि चक्रवर्ती
    सहायक प्रोफेसर (अंग्रेजी)
    अलायंस विश्वविद्यालय
  • डॉ. आई. एन. प्रकाश
    पुस्तकालयाध्यक्ष
    अलायंस विश्वविद्यालय

अनुकर्ष परिचय

अलायंस विश्वविद्यालय के भाषा और साहित्य विभाग की ओर से प्रकाशित अनुकर्ष एक पीअर – रिव्यूड पत्रिका है । इसकी विशेषता है कि इसमें तीन से अधिक भाषाओं में लेखों को संकलित किया जाता है – अंग्रेजी,हिन्दी, कन्नड़/अन्य भारतीय भाषा । इस पत्रिका का उद्देश्य – मौलिक और आलोचनात्मक सर्जना के माध्यम से भारतीय भाषाओं को समृद्ध करना साथ ही भिन्न – भिन्न भाषाओं से प्राप्त लेखों के माध्यम से रचनाओं में साम्य और वैषम्य की पड़ताल करना है । यह एक तूलनात्मक दृष्टिकोण को विकसित करने में सहायक है ।

दक्षिण भारत से पहली बार त्रिभाषा में प्रकाशित यह पत्रिका निश्चित रूप से भारतीय भाषाओं को परस्पर समझने में सहायक बनेगी ।

About the Anukarsh Magazine

पत्रिका के लिए लेख, द्वितीय अंक, वर्ष-1

आवश्यकता ही शोध की जननी होती है और शोध से ही शैक्षिक मापदण्डों का निर्धारण होता है । आज शैक्षिक जगत में विशेषकर उच्च शिक्षा संस्थानों में यह प्रश्न है कि शिक्षा के क्षेत्र में पाठ्यक्रमों की प्रासंगिकता, उपयोगिता और मौलिकता क्या है? देश और समाज के सरोकारों की दृष्टि से वे कितने वांछनीय हैं, इसकी गहराई शोध के माध्यम से ही जानी जा सकती है । ऐसी स्थिति में युवा शोधार्थियों, अध्येताओं, साहित्य प्रेमियों, युवा साहित्यकारों एवं अनुसंधान गतिविधियों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से अलायंस विश्वविद्यालय द्वारा “अनुकर्ष ” के रूप में त्रिभाषिक और त्रैमासिक राष्ट्रीय पत्रिका का प्रकाशन किया जा रहा है । इसका प्रवेशांक सितंबर में सफलतापूर्वक निकाला गया जो हिन्दी दिवस के उपलक्ष्य में मात्र हिन्दी पर ही केन्द्रित रहा ।

इसका दूसरा अंक दिसंबर में त्रिभाषा – हिन्दी,अंग्रेजी , कन्नड़/अन्य भारतीय भाषा में आयेगा । “अनुकर्ष” साहित्य, कला, संस्कृति,मानविकी, प्रबंधन एवं समाज विज्ञान के अनुशासन से जुड़ा है । संपादक और परामर्शदाता के निर्णयानुसार इस बार अनुकर्ष में “दक्षिण भारत की कला,साहित्यिक,सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक विरासत” पर विशेषांक निकाला जा रहा है । साहित्यकार, प्रबुद्ध लेखक, अध्येताओं और शोधार्थियों से इस विषय पर लेख भेजने का आग्रह है । आपका लेख, 20/12/2021 तक अनुकर्ष के इमेल पते anukarsh@alliance.edu.in पर भेजने का अनुरोध है । यह विशेषांक दक्षिण भारत के वैविध्य को समझने में सहायक होगा ।

लेख व शोध पत्र जमा करने की शर्तें व नियम

1
अनुकर्ष पत्रिका में प्रकाशन हेतु लेख अधिकतम 5000 से 9000 शब्द तथा सामान्य लेख 2000 से 5000 तक शब्दों में स्वीकार किया जाएगा । हिन्दी भाषा में पुस्तक की समीक्षा हेतु एक लेख में कम से कम दो पुस्तकों की समीक्षा अपेक्षित है । समीक्षा में आधार ग्रंथ का सही अर्थों में समीक्षा के प्रतिमान पर केन्द्रित लेख ही स्वीकृत किए जाएँगे । समीक्षात्मक लेख की शब्द सीमा 4000 शब्द से अधिक नहीं होनी चाहिए ।
2
लेख प्रेषित करने के पूर्व उसका सारांश (Abstract) एक पैराग्राफ (150 से 200 शब्दों में) प्रेषित करना अनिवार्य है ।
3
लेख के अंत में लेखक का नाम, फोन नंबर,ईमेल पता और संस्था या आवासीय डाक पता अवश्य होना चाहिए ।
4
आपका लेख मौलिक और अप्रकाशित होना चाहिए । लेख के साथ लेख के मौलिक और अप्रकाशित होने का घोषणा पत्र, हस्ताक्षर सहित भेजना अनिवार्य है ।
5
हिन्दी में प्रकाशन हेतु लेख यूनिकोड, कोकिला या मंगल फॉन्ट, साइज़ 14 में होना चाहिए ।
6
लेख भेजते समय प्रूफ रीडिंग का विशेष ध्यान रहे । टंकण की अशुद्धियाँ,मात्रिक अशुद्धियाँ, व्याकरणिक अशुद्धियों को पूर्ण रूप से जांच कर ही लेख प्रेषित करें ।
7
शोध पत्र विषय विशेषज्ञों की सहमति के उपरांत ही प्रकाशित किए जाएँगे । शोध पत्र लिखते समय संदर्भों (References) का स्पष्ट उल्लेख होना चाहिए । यथा- लेखक का नाम, पुस्तक का नाम, पृ॰ संख्या । पत्रिका के संदर्भ में – प्रकाशन वर्ष,संस्करण, पृ॰ संख्या का उल्लेख स्पष्ट और प्रामाणिक होना चाहिए ।
8
पत्रिका पढ़ने के उपरांत अपनी लिखित प्रतिक्रियाएँ / सुझाव अवश्य भेजें ताकि आगामी अंक में उस पर कार्य किया जा सके ।

पत्रिका अभिलेखागार

About the Anukarsh
अनुकर्ष

अंक –01 : भाद्रपद – कार्तिक, सितंबर-नवंबर, 2021

अभी पढ़ें

खबर और घटनाएँ

About the Anukarsh
अलायंस विश्वविद्यालय में हिंदी दिवस समारोह
24 सितंबर, 2021
अभी पढ़ें
Kannada Rajyostav Celebrations
अलायंस विश्वविद्यालय में कन्नड़ राज्योत्सव समारोह
13 नवंबर, 2021
अभी पढ़ें

संपर्क सूत्र

भाषा और साहित्य विभाग, अलायंस विश्वविद्यालय

चिक्काहागड़े क्रॉस, चन्दापुरा - आनेकल मेन रोड, आनेकल, बेंगलुरु - 562 106, कर्नाटक, भारत।

ई-मेल : anukarsh@alliance.edu.in
दूरभाष : +91 80 4619 9121 | 99009 04821 | 80750 99902